Wednesday, October 23, 2013

Maa tu hansti kyun nahin?

माँ  तू  अब  हंसती  क्यों  नहीं ?

प्यार  से  झरझर , खिलखिलाती  वह  छवि ,
मेरी  आँखों  से  मिटती  ही  नहीं। 
प्यार  बरसाती  सारे  दुखों  को  डुबोती ,
तेरी  हँसी  मन  से हटती  ही  नहीं। 
तेरी  हंसी  में  ही  तो  डूबा  हमेशा  सारा  डर ,
ज़िन्दगी  जीना  सीखा  होकर  निडर ,
पर  माँ  आज  तेरा  मायूस  सा  चेहरा 
और  वीरान  ऑंखें ,
कहाँ  डु बो ऊँ  मैं  अपने गम  और अपनी  आहें ?
माँ  क्या  ला  नहीं  सकती  तू  फिर  से वह  हँसी ,
जो  दे  मुझे  सदा  हिम्मत , लाये होठों  पे  हँसी ?

बहती  आँखों  से देख  तब  माँ  बोली ,
तेरी हंसी  में  ही  तो  सदा  मेरी  जान  बसी। 
तेरी  आँखों  में  उमड़ता  विश्वास ,
बनी  मेरी  आस ,
तेरी हँसी  की  चाह  ही  लाती  मेरे  होठों  पर  हँसी ,
पर  विश्वास  को हटा  जहाँ  घुमड़ा  अविश्वास ,
वहीँ  मेरी  हँसी  ने  भी  तोड़ी  अपनी  श्वास। 

प्यार  का  नाम  है  केवल  विश्वास। 
विश्वास बिना प्यार कहाँ ?
और प्यार  नहीं  तो कहाँ  से लाऊँ ,
तेरे  लिए  अपने  होठों  पर  हँसी ?

1 comment: