Saturday, May 28, 2016

Nanhi Pari

मेरे  घर  आई  एक  नन्ही  परी ,
नीले  आसमान  से  आई  वो  नन्ही  परी !

''अम्मू'' कानो  में  पड़ी  जैसे  ही  मिश्री  की डली ,
मैं  मुग्ध  सी , मोहित  सी उसकी ही  हो  चली !

नन्हे  नन्हे  हाथों  की  वो  स्निग्ध  छुअन ,
तरंगित  कर  दे  मेरा  ये  जीवन !

एक  परी  के  पंखों से  तो  खिला  था  जीवन ,
किसे  पता  था यह  नन्ही आकर ,महका  देगी  कानन !

प्रभु  तेरी  देन  हैं  मेरी  आखों  के तारे ,
और  उनके  फूल  तो  हैं ,
मेरे  चाँद  सितारे !

1 comment: